भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विवेकहीन दिन / मरीना स्विताएवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विवेकहीन, अनैतिक है मेरा यह दिन :
भिखारी से मांगकर रोटी की भीख
दान करती हूँ उसे निर्धन धनी को ।

सुई में से गुज़ारती हूँ किरणें
डाकुओं के हाथों थमाती हूँ चाबी
निष्प्रभ मुख पर फेरती हूँ आभा ।

भिखारी मुझे रोटी नहीं देता
धनी मुझ से पैसा नहीं लेता
सुई के छेद में से गुज़रती नहीं किरणें ।

डाकू घुसता है बिना चाबी के,
तीन धाराओं में बहते है बुद्धू लड़की के आँसू
अर्थहीन, घटनाहीन इस दिन पर ।

रचनाकाल : 20 जुलाई 1918

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : वरयाम सिंह