भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
खुद ही लड़का सा मैं निकल आया
दौर-ए-वापस तही वाबस्तगी गुज़ार के मैंअहद-ए-वापस तगी वाबस्तगी को भूल गया
यानी तुम वो हो, वाकई, हद है
मैं तो सच-मुच सचमुच सभी को भूल गया
रिश्ता-ए-दिल तेरे ज़माने में
रस्म ही क्या निबाहनी होती
मुस्कुराए, हम उससे मिलते वक्त
रो न पड़ते अगर खुशी होती
दिन दिल में जिनका निशान भी न रहाक्यूं न चेहरों पर पे अब वो रंग खिले खिलें
अब तो खाली है रूह, जज़्बों से
अब भी क्या हम तबाद तपाक से न मिले मिलें
शर्म, दहशत, झिझक, परेशानी
51
edits