भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हरी चंद अख़्तर

733 bytes added, 15:46, 12 नवम्बर 2013
/* ग़ज़लें */
{{KKShayar}}
====ग़ज़लें====
* [[ जिस ज़मीं पर तिरा नक़्श-ए-कफ़-ए-पा होता है / हरी चंद अख़्तर]]* [[सैर-ए-दुनिया से ग़रज़ थी महव-ए-दुनिया कर दिया / हरी चंद अख़्तर]]* [[शबाब आया किसी बुत पर फ़िदा होने का वक़्त आया / हरी चंद अख़्तर]]* [[सुना कर हाल क़िस्मत आज़मा कर लौट आए हैं / हरी चंद अख़्तर]]* [[उम्मीदों से दिल बर्बाद को आबाद करता हूँ / हरी चंद अख़्तर]]
Delete, Mover, Reupload, Uploader
2,887
edits