भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
{{KKCatKavita}}
<poem>
रूप तुम्हारा, गंध तुम्हारी, मेरा तो बस स्पर्श मात्र है
लक्ष्य तुम्हारा, प्राप्ति तुम्हारी, मेरा तो संघर्ष मात्र है
तुम असीम , मैं छुद्र विन्दु क्षुद्र बिन्दु सा , तुम चिरंजीवी चिरजीवी, मैं छन्भंगुरक्षणभंगुरतुम अनंत अनन्त हो , मैं सीमित हूँ हूं, वट सामान समान तुम मै , मैं नव अंकुरतुम अगाध गंभीर सिन्धु हो मै चंचल से , मैं चँचल सी नन्हीं धारातुम में विलय कोटि दिनकर, मै मैं टिमटिम जलता -बुझता तारा
दृश्य तुम्हारा , दृष्टि तुम्हारी, मेरी तो तूलिका मात्र हैसृजन तुम्हारा , सृष्टि तुम्हारी, मेरी तो भूमिका मात्र है
भृकुटीभृकुटि-विलास तुम्हारा करता सृजन-विलय सम्पूर्ण सृष्टि काबन चकोर मेरा मन रहता, अभिलाषी दो बूँद वृष्टि कामेरे लिए लिये स्वयं से हटकर क्षणभर हट कर क्षण भर का चिन्तन भी भारीतुम शरणागत वत्सल परहित -हेतु हुए गोवर्धन धारीगोवर्धनधारी
व्याकुल प्राण-रहित वंशी वँशी में तुमने फूँका मंत्र फूंका मन्त्र मात्र है राग तुम्हारा, ताल तुम्हारी, मेरा तो बस यंत्र यन्त्र मात्र है.
51
edits