भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
|भाषा=ब्रजभाषा
}}
{{KKCatBrajBhashaRachna}}
<poem>
चोरी माखन की दै छोड़ि
कन्हैया मैं समझाऊँ तोय<br>
एक लख धेनु नंद बाबा कें