भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
<poem>
देख के आँसू प्रभु के नयनों में
रोते हुए विकल पुरवासी लिपट गए चरणों में
सुनकर घोर विकलता छायी
धो दें यह कलंक दुखदायी स्वामी ! शेष क्षणों में '
 
देख आँसू प्रभु के नयनों में
रोते हुए विकल पुरवासी लिपट गए चरणों में
<poem>
2,913
edits