भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कृषक (दोहे) / गरिमा सक्सेना

392 bytes removed, 11:32, 30 मार्च 2018
{{KKCatDoha}}
<poem>
किस्मत हल को खेत में ,कृषक रहा है खींच।माटी को सोना करे ,श्रम से अपने सींच।।
बाढ़ कभी सूखा कभी, सहे भाग्य की मार।
मरते रोज किसान हैं , चुप बैठी सरकार।।
भीगी पलकों को लियेलिए, बैठा कृषक उदास।
अम्बर को है ताकता, ले वर्षा की आस।।
 
सिर पर कर्जा है चढ़ा,खाली हैं खलिहान।
किस्मत शायद ले रही, श्रम का इम्तिहान।।
 
श्रम से माटी सींचता, धीरज के हैं बीज।
खेती जीवन कृषक का,यही पर्व औ तीज।।
अन्न उगाता जो स्वयं, भूखा मरता आज।
लेकिन क्यूं क्यूँ सरकार को, तनिक न आये आए लाज।। 
</poem>
Mover, Protect, Reupload, Uploader
6,432
edits