भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
{{KKCatKavita}}
<poem>
मैं नचिकेता
मैंने यम के द्वार पहुंच कर दस्तक दी थी
द्वार खोल यम
मुझे न भाते मुक्ता-माणिक
रत्न खचित रत्नखचित आगार सुसज्जित गेह
स्वर्णमय मानव-निर्मित कलश-कंगूरे
हो न सका प्रज्ज्वलित दीप यदि अन्तर में तो
51
edits