भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
<poem>
कल रात भर
समंदर समन्दर मुझे पुकारता रहादबे पांव पाँव उसकी आहट
मेरे ज़ेहन से टकराती रही
सुबह देखा तो बस
दूर तलक पानी का विस्तार
कहां कहाँ है इस आवाज आवाज़ की शक्ल शक़्ल
जो रात भर मुझे
अपने पाश में
जकड़ती चली गई थी
 
मैं देख रही हूँ अनझिप
पानी पर उमड़ती लहरें
जिस पर लहरा रहा
मेरा ,आपका ,हम सबका भविष्यक्योंकि सत्ता भी बेशक्ल बेशक़्ल है उसकी भयानक आवाज आवाज़
सुन रहे हैं न आप ???
</poem>
Delete, Mover, Protect, Reupload, Uploader
49,449
edits