भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
{{KKGlobal}}
{{KKRachna
|रचनाकार=भारतेंदु भारतेन्दु मिश्र
|अनुवादक=
|संग्रह=
जूतों में कीलें हैं
रास्ते नुकीले हैं
बपर्फ बर्फ़-सी पिघलती
और सिर्फ चलती
ओठों पर अड़ियल मुस्कान है।