भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
|संग्रह=माँ की मीठी आवाज़ / अनातोली परपरा
}}
{{KKCatKavita‎}}
[[Category:रूसी भाषा]]
<poem>
इस तन्हाई में फकीरे
 
दिन बीते धीरे-धीरे
 
:::यहाँ सागर की राहों में
 
कभी नभ में छाते बादल
 
बजते ज्यूँ बजता मादल
 
:::मन हर्षित होते घटाओं के
 
सागर का खारा पानी
 
धूप से हो जाता धानी
 
:::रंग लहके पीत छटाओं के
 
जब याद घर की आती
 
मन को बेहद भरमाती
 
:::स्वर आकुल होते चाहों के
 
बस श्वेत-सलेटी पाखी
 
जब उड़ दे जाते झाँकी
 
:::मलहम लगती कुछ आहों पे
</poem>
Delete, Mover, Protect, Reupload, Uploader
45,106
edits