भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विश्लेषण / नील्स फर्लिन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह ईश्वर, जो रहता है ऊंचाई पर,
दिया उसने तुम्हें दुखी हृदय
और उसपर दे दी व्यग्र आँखें
--- अतः हैं चिंताएं सक्रीय!

तुम्हारी टूटन और तुम्हारा दर्द
कुछ बेहतर होते, मेरे भाई, मिलता तुमें अगर
कुछ और आकर्षक हृदय
और एक अधिक सार्वभौम नज़र.


(मूल स्वीडिश से अनुवाद : अनुपमा पाठक)