भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

वि़द्या दो / लीलाधर जगूड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विद्या दो भिखारी को
वह सब कुछ आत्‍मसात करना चाहता है
भूखे को भोजन की विद्या दो

अपराधी ने ईश्‍वर से कहा
हे ईश्‍वर ! मैं जो कुछ करता हूँ
तुमको अर्पित करता हूँ
मैं हरेक को मरा हुआ समझता हूँ

हे ईश्‍वर ! जो पहले ही मरे हुए हैं
उन्‍हें मारता हूँ मैं
इस महाभारत में

विद्या दो
विद्या दो
कोई और विद्या दो भिखारी को
रोटी से ही नहीं मिटेगी भूख
भूखे को भरपूर भोजन की विद्या दो

वरना भूखा
भोजन की कोई एक विद्या
खुद चुन लेगा।