भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वृंदावनदास / परिचय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हित वृंदावनदास का जीवन वृत्तांत उपलब्ध नहीं है। अनुमान है कि ये पुष्कर के निवासी थे जो बाल्य-काल में ही विरक्त होकर वृंदावन जाकर रहने लगे थे। वल्लभ संप्रदाय के कवियों में इनका प्रमुख स्थान है। कहते हैं सूरदास की भांति इन्होंने भी सवा लाख पद रचे थे, जिनमें दोहा, चौपाई, छप्पय आदि कई प्रकार के छंदों का प्रणयन किया था। लोक जीवन से जुडे हुए संस्कारों, त्योहारों और रासलीला आदि पर भी इन्होंने गीत लिखे। 'लाड-सागर इनका प्रसिध्द ग्रंथ है। ब्रजभाषा को व्यापक बनाने में इनका योगदान आदरणीय है।