भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वृक्षारोहन / रित्सुको कवाबाता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: रित्सुको कवाबाता  » वृक्षारोहन

चीशें
मंत्रीजी की सबसे छोटी संतान
एक दो साल की बच्ची है .
विश्वविद्यालय का लम्बा छात्र
एक ऊंचे वृक्ष सा लगता है
चीशें को .
उसकी टाँगे हैं वृक्ष का तना,
और उसकी बाहें ,- शाखाएं !
चढ़ते हुए ऊपर और ऊपर
जब तक पहुँचती है वह शीर्ष तक .
हम देखते हैं उसे थाम साँसे,
वह उतरती है भाई से नीचे
टाँगे लिपटाये
और हम सब बजाते हैं ताली .
चीशें की आँखों से झलकता है -
वृक्ष पर चढ़ना आसन हैं उसके लिए
यह इश्वर का वरदान है !

अनुवादक: मंजुला सक्सेना