भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वृक्ष / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अकेला ही खड़ा था मैं
एक हौसला लिए
मजबूती से अपनी जड़ से जुड़ा
हवाओं का सामना करता
झुकता सहमता
मगर रहा अटल
अब विशाल वृक्ष हूँ
जो कभी पौध कहलाता था।