भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वृहद और नगण्य / नील्स फर्लिन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमने अधिक से अधिक अन्वेषण किया
और धरती वृहद् से वृहद्तम होती गयी.
फिर और अधिक अन्वेषण किया
और धरती, मात्र अब एक कण रह गयी
एक छोटा सा गुब्बारा
अनंत में.

(मूल स्वीडिश से अनुवाद : अनुपमा पाठक)