भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वे कहते हैं / मुइसेर येनिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भीड़ में घुसते हुए, मैं पूछता हूँ --
क्या तुम मेरी माँ हो ?
पूछता हूँ
किसी दरख़्त की पोखर
और आसमान में बिखरे परिन्दों से
जिह्वा के ऊपर
मेरी आँखें देख रही हैं बहुत ऊपर,
पुल गुज़र रहे हैं
मेरे हाथों के ऊपर से...
मैं एक कहानी के भीतर हूँ
कहानियों से बने हैं मेरे बाल

मैं जोर से दबाता हूँ अपना सीना
और पुरुषत्व पिघल आता है आँखों में

भीड़ में घुसते हुए, मैं पूछता हूँ
वे कहते हैं -- मेरी माँ होनी चाहिए थी

सन्तरे के एक छिलके की तरह
वे कहते हैं....