भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वे चाहते ऐसा काम मिल जाए / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वे चाहते ऐसा काम मिल जाए।
जिसे किए बिना ही नाम मिल जाए।

इस हद तक लगे हैं उनको पूजने,
यहां सुबह औ’ शाम मिल जाए।

जो लिया सदा पिछले दरवाजों से,
चाहने लगे सरेआम मिल जाए।

अब तो दिल में बची है हसरत यही,
जैसे भी हो, बस इनाम मिल जाए।

काली निगाहों से देख रहे दुनिया,
चाहते हैं दामन साफ़ मिल जाए।