भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वे जो हैं / हरीश भादानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वे जो हैं-
सुबह की सीध देते हैं
अंधेरी रात को,
वे जो औंधे-
बिखरे-से लगते हमें
पर एक ही आंगन खड़े हैं पांव थामे,
वे जो दूर से
ओछे लगते हमें
मगर परछाइयां उनकी
सीधी उतरती-
भीड़ ढो-ढो कर थकी-हारी धरा पर,
वे जो सींचते हैं
रोशनी के झल-मली झरने, कि बोलें हम-
यह माटी उर्वरा है,
वे जो सौंपते हैं-
सरजना के देवता को कुंकुमी चूनर,
पंछियों के स्वर,
नई क्रियाओं की धरा
स्वयं के विसर्जन की घड़ी में,
वे जो जड़ लगा करते हमें
संकेत देते हैं-नई दिशाओं के !