भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वे राहें, वे रेलवे स्टेशन / अमरजीत चंदन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझे वे राहें, वे रेलवे स्टेशन
बस अड्डे और हवाई अड्डे
बिल्कुल अच्छे नहीं लगते
जहाँ सज्जन बिछुड़ जाते हैं
फिर कभी नहीं आते

मुझे उन राहों, उन रेलवे स्टेशनों
बस अड्डों और हवाई अड्डों से
बहुत मोह है
जहाँ सज्जन आन मिलते हैं
फिर कभी नहीं जाते

मूल पंजाबी भाषा से अनुवाद :