भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वे वैसे ही थे, जैसे वे थे / निकानोर पार्रा / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वे चान्द की पूजा
करते थे – लेकिन ज़्यादा नहीं ।

वे लकड़ी के
टोकरे बनाते थे ।

उन्हें संगीत का
पता नहीं था ।

वे खड़े-खड़े
सम्भोग करते थे ।

वे अपने मुर्दों को
खड़ा दफ़नाते थे ।

वे वैसे ही थे, जैसे वे थे ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य