भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वो अभी-अभी लौटा है / अनातोली परपरा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: अनातोली परपरा  » संग्रह: माँ की मीठी आवाज़
»  वो अभी-अभी लौटा है

वो अभी-अभी लौटा है

अपने फ़रिश्तों के साथ


अपनी व्यस्तताओं से अभी-अभी

आया है बाहर और

देख रहा है यह दुनिया अब


देख रहा है वह

बेटे की शरारत पहले-पहल


वह मुस्किया रहा है

हौले- हौले


(रचनाकाल :1991)