भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वो कुछ इस तरह चाहता है मुझे / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वो कुछ इस तरह चाहता है मुझे
अपने जैसा बना दिया है मुझे

इस तरह उस ने ख़त लिखा है मुझे
जैसे दिल से भुला चूका है मुझे

गर नहीं चाहता तो पिछले पहर
क्यूँ दुआओं में मांगता है मुझे

जिस प' फलते नहीं दुआ के पेड़
उस ज़मीं से पुकारता है मुझे

तख्लिये में न जाने कितनी बार
लिखते-लिखते मिटा चुका है मुझे

लम्हा-लम्हा उगाने की धुन में
क़तरा-क़तरा डूबा रहा है मुझे

वास्ता दे के मौसिमों का 'निज़ाम'
वो दरख्तों से माँगता है मुझे