भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वो दौर दिखा जिसमें इन्सान की ख़ूशबू हो / आलोक श्रीवास्तव-१

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


वो दौर दिखा जिसमें इन्सान की ख़ूशबू हो
अन्सान की आखों में ईमान की खुशबू हो

पाकीजा अजाओं में मीरा के भजन गूंजें
नौ दिन के उपासन में रमजान की खुशबू हो

मैं उसमें नज़र आऊ वो मुझमें नज़र आये
इस जान की खुशबू में उस जान की खुशबू हो

मस्जिद की फिजाओं में महकार हो चन्दन की
मंदिर की फिजाओं में लोबान की खुशबू हो

हम लोग भी फिर ऐसे बेनाम कहाँ होंगे
हममें भी अगर तेरी पहचान की खुशबू हो