भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वो बस्तियाँ, वो बाम, वो दर कितनी दूर हैं / 'महताब' हैदर नक़वी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वो बस्तियाँ, वो बाम, वो दर कितनी दूर हैं
महताब, तेरे चाँद नगर कितनी दूर हैं

वो ख्वाब जो ग़ुबार-ए-गुमा१ में नजर न आये
वो ख्वाब तुझसे दीदा-ए-तर कितनी दूर है

बाम-ए-ख्याल-ए-यार२ से उतरे तो ये खुला
हमसे हमारे साम-ओ-सहर कितनी दूर हैं

ऐ आसमान इनको जहाँ होना चाहिए
उस ख़ाक से ये ख़ाकबसर३ कितनी दूर हैं

बैठे-बिठाये दिल के सफर पर निकल तो आये
लेकिन वो मेहरबान-ए-सफर कितनी दूर हैं

ये भी ग़ज़ल तमाम हुई, शाम हो चुकी
अफ्सून-ए-शायरी४ के हुनर कितनी दूर हैं

१-भ्रम की धूल, २-मित्र के ध्यान की छत ३-सिर पर धूल उड़ाता हुआ २-काव्य का जादू