भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वो मुझे जुर्रते-इज़हार से पहचानता है / मुनव्वर राना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


वो मुझे जुर्रते-इज़्हार[1] से पहचानता है
मेरा दुश्मन भी मुझे वार से पहचानता है
 
शहर वाक़िफ़[2]है मेरे फ़न[3]की बदौलत[4] मुझसे
आपको जुब्बा-ओ-दस्तार[5]से पहचानता है

फिर क़बूतर की वफ़ादारी पे शक मत करना
वो तो घर को इसी मीनार से पहचानता है

कोई दुख हो कभी कहना नहीं पड़ता उससे
वो ज़रूरत को तलबगार[6]से पहचानता है

उसको ख़ुश्बू के परखने का सलीक़ा ही नहीं
फूल को क़ीमते-बाज़ार[7]से पहचानता है

शब्दार्थ
  1. अभिव्यक्ति के साहस
  2. परिचित
  3. कला
  4. कारण
  5. पहरावे और पगड़ी से
  6. ज़रूरतमंद
  7. बाज़ारी-मूल्य