भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वॾो या नंढो / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जॾहिं हू नंढो हो
ॻाल्हाईन्दो कोन हो कूड़
कयाईं न कॾहिं
का चोरी
ॾिसी कष्ट परावनि जा
थी वेन्दो हो
दुखी
दया ऐं करुणा सां
हो ॼणु टिमटार
जॾहिं हू नंढो हो
वंडे विरहाए खाईन्दो हो
सभेई लॻन्दा हुअसि
पंहिंजा,
कंहिं खे बि न
समुझन्दो हो
धारियो
जॾहिं हू नंढो हो।

हाणे हू वॾो थी वियो आहे!