भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शकुनाक्षर - शकुनादे / कुमांउनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये वो शगुन के आखर हैं - जो कुर्मंचालीय संस्कृति में हर शुभ कार्य में बांचे जाते हैं. कुर्मांचल की परम्पराएं अनंत काल से शंख - घंट की ध्वनि एवं भरे हुए कलश को शगुन का पर्याय मानती आई हैं . कुल वधुओं के अखंड सौभाग्य एवं उनकी हरी - भरी गोद के प्रति अपनी समस्त शुभकामनाएं संजोए है यह शगुन गीत


शकूनादे शकूनादे काजये,

आती नीका शकूना बोल्यां देईना ,

बाजन शंख शब्द ,

देणी तीर भरियो कलश,

यातिनिका, सोरंगीलो,

पाटल आन्च्ली कमले को फूल सोही फूल मोलावंत गणेश,

रामिचंद्र लछीमन जीवा जनम आद्या अमरो होय,

सोही पाटो पैरी रैना ,

सिद्धि बुद्धि सीता देही

बहुरानी आई वान्ती पुत्र वान्ती होय