भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शब्दों की चित्रकारी / निज़ार क़ब्बानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बीस साल बीत गए प्यार की राह पर मगर
अभी भी इस रास्ते का कोई नक़्शा नहीं है ।
कभी-कभी मैं हुआ विजेता ।
अधिकतर रहा पराजित ।
बीस साल, ऐ प्रेम की पोथी !
और अभी भी पहले पन्ने पर हूँ ।