भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शरद का गीत / पॉल वेरलेन / अनिल जनविजय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देर तक रोता हूँ
शरदकाल में बजती
उदास वायलिन की तरह
घायल है मेरा दिल
पीड़ित है
नीरस है बेसुरा

घनी ऐंठन है मन में
पीला हो गया है चेहरा
मुझे याद आते हैं
पुराने दिन
और रोता हूँ मैं आह भर-भर

अब जा रहा हूँ
शरद की हवा के साथ
थपेड़े खाता हुआ
सूखे मृत पत्ते की तरह

रूसी से अनुवाद : अनिल जनविजय