भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शर्त / अब्दुल्ला पेसिऊ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: अब्दुल्ला पेसिऊ  » शर्त

नहीं
मैं बिल्कुल नहीं हूँ विरोधी
तानाशाहों का

उन्हें फैला लेने दो पग-पग पर अपने पैर
सम्पूर्ण विश्व में
ईश्वर के प्रतिबिंब की तरह

पर
एक ही शर्त रहेगी मेरी-
बन जाने दो तानाशाह
दुनिया के तमाम बच्चों को।


अंग्रेज़ी से अनुवाद : यादवेन्द्र