भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शहर में था न तिरे हुस्न का ये शूर कभू / इनामुल्लाह ख़ाँ यक़ीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शहर में था न तिरे हुस्न का ये शूर कभू
मिस्र इस जिंस से इतना न था मामूर कभू

इश्क़ में दाद न चाहो कि सुना हम ने नहीं
अदल ओ इंसाफ का इस मुल्क में दस्तू कभू

फ़िक्र मरहम का मिरे वास्ते मत कर नासेह
ख़ूब होता नहीं इस इश्क़ का नासूर कभू

गो न कर वादा वफ़ा दे न मुझे उस का जवाब
मुझ से मिलना भी सजन है तुझे मंज़ूर कभू

अपनी बेदर्दी की सौगंद है तुझ को ऐ मर्ग
तू ने देखा है ‘यक़ीं’ सा कोई रंजूर कभू