भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शहर / लैंग्स्टन ह्यूज़ / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शहर सुबह-सुबह
फैला देता है अपने डैने
पत्थरों से निचोड़ता है एक गीत
और गाता है ।

शाम को वही शहर
सोने चला जाता है,
उसके सिर के ऊपर
लटकती हैं बत्तियाँ ।

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य