भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शाख़ मेरी न अब समर मेरा / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शाख़ मेरी न अब समर मेरा
अख़्तियार अब है आँख भर मेरा

आईने में तो अक्स है लेकिन
मार डालेगा मुझको डर मेरा

आसमानों प' तू रहा ख़ामोश
घर गया तेरे नाम पर मेरा

मैंने सज़दे में सर झुकाया था
ले गए सर उतार कर मेरा

दश्तों-सहरा उजाड़ आया हूँ
ढूँढ़ता हूँ कहाँ है घर मेरा

दस्तो-बाजू लिए ज़बाँ मत ले
आख़िरी पर तो मत क़तर मेरा

मू-ब-मू कुछ सिमट रहा है 'निज़ाम'
और चर्चा है दर-ब-दर मेरा