भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शान्त सत्याग्रह कौ भयौ है अन्त कोऊ कहै / नाथ कवि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शान्त सत्याग्रह कौ भयौ है अन्त कोऊ कहै।
भारत धनी को कियौ अति ही कंगाल है॥
ढैया एक रैया कौ बिकन लागौ ‘नाथ कवि’।
दीनानाथ कीजियौ अनाथन की सम्भाल है॥
हा-हा-कार चारों ओर देश मांहि फैल रह्यौ।
क्लेश कल-मस की चाल कठिन कराल है॥
बलि हो रहा है भूख चण्डी की क्षुधा से प्यारा।
क्रांति का पुजारी यह प्राँत बंगाल है॥