भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शापिंग मॉल / संतोष अलेक्स

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर रोज़ भीड़ रहती है यहाँ
शापिंग करनेवालों की
और न करनेवालों की

एक बडी-सी दुनिया है इसके भीतर
कुछ भी खरीदा जा सकता है
नियुक्ति, प्रमोशन
तबादला
प्रमाण-पत्र
सभी के दाम तय हैं

हरेक के लिए
अलग-अलग सेल्समेन
साथ में डिस्काउंट-कूपन भी हैं

मुझे ख़रीदारी नहीं आती
सो खाली हाथ लौट आया

अनुवाद : अनिल जनविजय