भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शाम (हाइकु) / भावना कुँअर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(1)
ओढे बैठी है
कोहरे की चादर
शाम सुहानी
(2)
दुल्हन झील
तारों की चूनर से
घूँघट काढ़े
(3)
चॉंदनी रात
जुगनुओं का साथ
हाथ में हाथ
(4)
सीप -से मोती
जैसे झाँक रहा हो
 नभ में चाँद
 (5)
मदहोश -सी
थी वो शाम सुहानी
गुज़री साथ