भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शाम : एक मंज़र / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बिलखती हवाओं के हाथों में
ज़ख़्मखुर्दा पत्ते
कुहर में
गुमशुदा दैर की गूँजती घंटियाँ
ख़ौफ़ से साकित
बिन परिंदे के पेड़