भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शायरे-इमरोज़ / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
क्या है कोई शेर तेरा तर्जुमाने दर्दे-क़ौम ?
तूने क्या मंजूम की है दास्ताने दर्दे-क़ौम?

अपने सोज़े-दिल से गरमाया है सीनों को कभी?
तर किया है आँसुओं से आस्तीनों को कभी?

क़ौम के ग़म में किया है ख़ून को पानी कभी?
रहगुज़ारे-जंग में की है हुदीख़्वानी कभी?

क्या रुलाया है लहू तूने किसी मज़मून से?
नज़्में आज़ादी कभी लिक्खी है अपने ख़ून से?

रहगुज़ारे-जंग :युद्ध के मार्ग में  ; हुदीख़्वानी: बलिदानों की प्रशंसा