भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शायर / मख़दूम मोहिउद्दीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ क़ौसे क़ज़ह[1] से रंगत ली कुछ नूर चुराया तारों से
बिजली से तड़प को माँग लिया कुछ कैफ़[2] उड़ाया बहारों से ।
फूलों से महक शाखों से लचक और मंडवों से ठंडा साया
जंगल की कवाँरी कलियों ने दे डाला अपना सरमाया ।
बदमस्त जवानी से छीनीं कुछ बेफ़िक्री, कुछ अल्हड़पन
फिर हुस्ने जुनूँ[3] परवर ने दी आश्फ़्तासरी[4] दिल की धड़कन ।
बिखरी हुई रंगी किरनों की आँखों से चुनकर लाता हूँ
फ़ितरत के परेशाँ नग़मों से इक अपना गीत बनाता हूँ ।
फ़िरदौसे ख़याली[5] में बैठा इक बुत को तराशा करता हूँ
फिर अपने दिल की धड़कन को पत्थर के दिल में भरता हूँ ।

शब्दार्थ
  1. इन्द्रधनुष
  2. आनन्द
  3. सौन्दर्य का उन्माद
  4. पागलपन
  5. स्वर्ग की कल्पना