भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शारदा स्तुति / मनोज चारण 'कुमार'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थाने सिंवरू शारदा, माँ दीज्यो मो बरदान।
निमळापणू हिये बिराजै, हुवै आतमज्ञान।
अरज थासू भारती, माँ निरमल देवो ज्ञान।
ग्यान जोत मन मैं जागै, और मिटे अभिमान।।

बर दयो थे बरदायणी माँ काटो कष्ट कलेश।
हिये च्यानणू उपजै माँ, दयो आशीष हमेश।
कर जोड्यां चारण करै माँ, थासूं आ अरदास।
मो हिये नित राखज्यो माँ, थारोड़ो विश्वाश॥

शत-शत वंदन मात नै, कोटि-कोटि आभार।
मिलै जलम जूण मै, इणी धरा हर बार।
इणी धरा हर बार, माँ किरपा कीजे,
मो पर तो आशीष, सदा ही करती रीजे॥

भाषा जणणी जलमभोम, सैसूं मोटी चीज।
तीनू सींचे जीव नै, जीव इणा नै सींच।
जीव इणा नै सींच, बावळा मती करै संकोच,
मातभोम री वंदना, सैसूं पैली सोच।।