भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शासक / अहमेद फ़ौआद नेग़्म / राजेश चन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमारे श्रम और
माथे के पसीनों से
खेतों की बजाय,
तुम बनाते हो आलीशान महल,
शराबख़ाने, कारख़ानों से सटे हुए
और जेलें, पार्कों के बदले में ।

तुम खुला छोड़ देते हो
अपने कुत्तों को
गलियों की हवा खाने के लिए
और हमें बन्द कर देते हो
कोठरियों-तहख़ानों के सीलन भरे अन्धेरों में ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : राजेश चन्द्र