भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शिमला-समझौता / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक बार चूहे –चुहिया में
हुआ ज़ोर का झगड़ा,
चूहा था कमजोर,मगर
चुहिया का दल था तगड़ा।
     डरकर चूहे ने चुहिया को
     दे डाला ये न्योता –
    ‘चलो, चले शिमला,आपस में
    कर ले हम समझौता।’
          [नवभारत टाइम्स,14 अक्तूबर 1973]