भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शिल्पी तियाना का / कंस्तांतिन कवाफ़ी / सुरेश सलिल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जैसा तुमने सुना होगा, मैं नौसिखुआ नहीं
अपने वक़्तों में मैंने ढेरों पत्थर तराशे हैं,
और अपने देश तियाना में मैं बहुत प्रसिद्ध हूँ ।

यहाँ के कई सीनेटरों ने भी मुझसे काम कराया है ।
आइए, अपने कुछेक काम आपको दिखाऊँ !

यह देखिए — रिया[1] : श्रद्धास्पद, धैर्यमूर्ति, आदिकालीन
देखिए — पोम्पे[2] और यह मारिअस[3] और
पाउलुस अमीलिअस[4] और सीपिओ अफ्रिकानुस[5]
सामर्थ्यानुसार जितना सजीव मैं तराश सका ।

और पात्रोक्लोस[6] [थोड़ा सा काम अभी इस पर मुझे करना है ।]
संगमरमर के उन पीताभ खण्डों के निकट वहाँ
खड़ा है कैसेरिअन[7] !

एक अरसे से मैं पोसीदोन[8] के एक शिल्प पर लगा हुआ हूँ
ख़ासतौर से उसके अश्वों को लेकर सोच-विचार चल रहा है
किस तरह सजीव करूँ उन्हें ।

उन्हें इतना हल्का-इतना फुरतीला होना है,
साफ़ नज़र आए कि उनकी देहें, उनकी टाँगें
धरती का स्पर्श किए बिना
पानी पर सरपट दौड़ रही हैं ।

किन्तु मेरा सबसे पसन्दीदा काम यह है
बहुत ही भावना और मनोयोग से तराशा गया ।
यह वाला !... वह बहुत गर्म दिन था
और मेरी चेतना सर्वांग जाग्रत
किसी दिव्यदर्शन की भाँति मेरे निकट आया
यह युवा हर्मीस[9] !

[1911]

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुरेश सलिल

शब्दार्थ
  1. यूनानी पौराणिकी के आदिकालीन देवता [टाइटन] क्रोनस [रोमन ‘सैटर्न’] की पत्नी तथा ज़ीअस और हेरा की माँ।
  2. जूलिअस सीज़र का समकालीन एक महान रोमन सेनानायक।
  3. 86 ई.पू. से 183 ई.पू. के मध्य के रोमन काउंसुल एवं जनरल।
  4. 86 ई.पू. से 183 ई.पू. के मध्य के रोमन काउंसुल एवं जनरल।
  5. 86 ई.पू. से 183 ई.पू. के मध्य के रोमन काउंसुल एवं जनरल।
  6. एक पौराणिक यूनानी योद्धा, जो त्रोय के युद्ध में मारा गया। अकिलीस का अभिन्न मित्र।
  7. जूलिअस सीज़र और क्लिओपात्रा का बेटा। तोलेमी राजवंश का सोलहवाँ शासक।
  8. समुद्र और अरबों का यूनानी देवता, रोम में नेप्च्यून नाम से लोकप्रिय।
  9. वाणिज्य, मल्ल विद्या का यूनानी देवता, रोम में मर्करी नाम से लोकप्रिय। इस कविता का घटनास्थल रोम है और केन्द्रीय चरित्र कवि-कल्पित। तियाना कापादोकिया में एक नगर था।