भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शुक्र वो जान गई, फिर आई / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शुक्र वो जान गई, फिर आई
ऐश की आन गई, फिर आई

तेरे आने सिती ऐ राहत-ए-जाँ
शहर की जान गई, फिर आई

फिर के आना तिरा है बाइस-ए-शौक़
जिस तरह तान गई, फिर आई

तेरे आने सिती ऐ माया-ए-हुस्‍न
ऐश की शान गई, फिर आई

ऐ 'वली' क़ंद-ए-मुकर्रर है ये बात
शुक्र वो जान गई, फिर आई