भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शून्य / रित्सुको कवाबाता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: रित्सुको कवाबाता  » शून्य

आगे वाला मकान तोड़ दिया गया .
तीस वर्षों का इतिहास होगया धूल धूसरित
कुछ भी शेष नहीं है
बस रह गया है शून्य .
मैं देख सकती हूँ आधारभूमि
अपने दूसरे तल के दालान से
मैं देखती हूँ -
पश्चिमी आकाश विस्तृत है
कुछ नहीं करता अवरुद्ध मेरी दृष्टि
नीले आकाश तक
ब्रह्मांड लगता है कुछ और निकट
कुछ भी नहीं है कृत्रिम धरती पर
शून्य सर्व श्रेष्ठ है !
शून्य अंत है और आरम्भ भी

अनुवादक: मंजुला सक्सेना