भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शृंगार / शीतल प्रसाद शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भरे हउला बोहे, पानी चुचवावत हे।
गोरी के देह वोखर उम्र ल बतावत हे।
लम्बा चुंदि के छोकरी, आंखी घुमावत जाय
देखे तौनो पछताय, नई देखय तौन पछताय
सोलहसाल म सुरा घलो सुंदर दीखथे
मया के नइय परिभाषा, सब अपने अपन सीखथे
चेहरा माहे चन्दा, आंखी हे कमल फूल।
कनिहा म हे नंदिया, रेंगना झूलना के झूल।