भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शोधन / तादेयुश रोज़ेविच

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लजाओ मत आँसुओं से
आँसुओं से न लजाओ युवा कवियों
रीझो चाँद पर
चाँदनी रात पर
रीझो निर्मल प्रेम और कोयल के सुरों पे
स्वर्ग जाने से मत डरो
तारों तक पहुँचो
तुलना करो आँखों की तारों से
अभिभूत होओ जंगली गुलाब से
नारंगी तितली से
उदित और अस्त होते सूरज से
चुगाओ प्यारे कबूतरों को
विहँसते देखो ध्यान से
कुत्तों एंजिनों फूलों और गैंडों को
आदर्शों की बात करो
गीत गाओ जवानी के
भरोसा करो गुजरते अजनबी पर
भोलापन तुम्हें देगा भरोसा सुंदरता पर
भावुकता से तुम पहुँचोगे मनुष्य पर भरोसे तक
लजाओ मत आँसुओं से
आँसुओं से न लजाओ युवा कवियों