भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शोषक रे अविचल ! / मनुज देपावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शोषक रे अविचल !

शोषक रे अविचल !
अजेय! गर्वोन्नत प्रतिपल !
लख तेरा आतंक त्रसित हो रहा धरातल !

भार-वाहिनी धरा ,
किन्तु तुमको ले लज्जित !
अरे नरक के कीट!, वासना-पंक-निमज्जित!

मृत मानवता के अधरों पर ,
मृत्यु-झाग से !
वसुंधरा पर कौन पड़े, तुम शेष नाग से !

वसुधा के वपु पर रे !
कलुष दाग तुम निश्चल !
शोषक रे ! दुर्दांत-दस्यु !, गर्वोन्नत प्रतिपल !